Search This Blog

Dr A P J Abdul kalam grate personality of India

tribute to klam

दोस्तो पूरे भारत मे मुस्लिम समुदाय के लोग चर्चा मे रहते है,अच्छियों मे कम बुराइयों मे ज्यादा चर्चा होती है इनकी, इन सबके बीच हमारे देश मे कुछ ऐसे मुसलमान है जिनकी बताए रास्ते पर अगर सभी मुसलमान चले तो भारत ही नहीं पूरी दुनिया मे मुसलमानो को इक अलग पहचान मिलेगी ।

दोस्तो आज हम ऐसे सख्स के बारे मे बात करेंगे जिनके बारे मे अपने कभी बुराई नहीं सुनी होगी हर तबके और हर समुदाय के लोग इनका आदर सत्कार करते है , पूरी मुस्लिम कौम अगर इनके तरह बनने का इक्षा रखे तो शायद बहुत कुछ बदल जाएगा इनमे ।

दोस्तो हम बात कर रहे है देश के जनेमाने वैज्ञानिक डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम की जिन्होने न सिर्फ पूरे दुनिया मे देश का नाम रौशन किया बल्कि पूरी दुनिया के सभी समुदाय के लोगो के लिए एक आदर्श बन गए ।
मिशाइल मैन 
दोस्तो सिर्फ भारत देश मे ही नहीं पूरी दुनिया मे इनके बारे मे इक भी बुराई या फिर कोई विवाद ढूंढने से भी नहीं मिलेगी।

15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोडी गाँव (रामेश्वरम, तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग मुस्लिम परिवार में इनका जन्म हुआ।इनके पिता जैनुलाब्दीन न तो ज़्यादा पढ़े-लिखे थे, न ही पैसे वाले थे। इनके पिता मछुआरों को नाव किराये पर दिया करते थे। अब्दुल कलाम संयुक्त परिवार में रहते थे। परिवार की सदस्य संख्या का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि यह स्वयं पाँच भाई एवं पाँच बहन थे और घर में तीन परिवार रहा करते थे।अब्दुल कलाम के जीवन पर इनके पिता का बहुत प्रभाव रहा। वे भले ही पढ़े-लिखे नहीं थे, लेकिन उनकी लगन और उनके दिए संस्कार अब्दुल कलाम के बहुत काम आए। पाँच वर्ष की अवस्था में रामेश्वरम के पंचायत प्राथमिक विद्यालय में उनका दीक्षा-संस्कार हुआ था। उनके शिक्षक इयादुराई सोलोमन ने उनसे कहा था कि जीवन मे सफलता तथा अनुकूल परिणाम प्राप्त करने के लिए तीव्र इच्छा, आस्था, अपेक्षा इन तीन शक्तियो को भलीभाँति समझ लेना और उन पर प्रभुत्व स्थापित करना चाहिए।

अब्दुल कलाम ने अपनी आरंभिक शिक्षा जारी रखने के लिए अख़बार वितरित करने का कार्य भी किया था कलाम ने 1958 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। स्नातक होने के बाद उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम करने के लिये भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान में प्रवेश किया। 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में आये जहाँ उन्होंने सफलतापूर्वक कई उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में अपनी भूमिका निभाई। परियोजना निदेशक के रूप में भारत के पहले स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी 3 के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई जिससे जुलाई 1982 में रोहिणी उपग्रह सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया गया था। इसलिए इन्हे मिशाइल मैन के नाम से भी भारत मे प्रसिद्ध थे ।

Dr. A P J Abdul kalam with his Family 
अब्दुल कलाम भारत के ग्यारवें राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे। इन्हें भारतीय जनता पार्टी समर्थित एन॰डी॰ए॰ घटक दलों ने अपना उम्मीदवार बनाया था जिसका वामदलों के अलावा समस्त दलों ने समर्थन किया। 18 जुलाई 2002 को कलाम को नब्बे प्रतिशत बहुमत द्वारा भारत का राष्ट्रपति चुना गया था और इन्हें 25 जुलाई 2002 को संसद भवन के अशोक कक्ष में राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई गई।
कलाम के 79 वें जन्मदिन को संयुक्त राष्ट्र द्वारा विश्व विद्यार्थी दिवस के रूप में मनाया गया था। इसके आलावा उन्हें लगभग चालीस विश्वविद्यालयों द्वारा मानद डॉक्टरेट की उपाधियाँ प्रदान की गयी थीं भारत सरकार द्वारा उन्हें 1981 में पद्म भूषण और 1990 में पद्म विभूषण का सम्मान प्रदान किया गया जो उनके द्वारा इसरो और डी आर डी ओ में कार्यों के दौरान वैज्ञानिक उपलब्धियों के लिये तथा भारत सरकार के वैज्ञानिक सलाहकार के रूप में कार्य हेतु प्रदान किया गया था

1997 में कलाम साहब को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न प्रदान किया गया जो उनके वैज्ञानिक अनुसंधानों और भारत में तकनीकी के विकास में अभूतपूर्व योगदान हेतु दिया गया था

वर्ष 2005 में स्विट्ज़रलैंड की सरकार ने कलाम के स्विट्ज़रलैंड आगमन के उपलक्ष्य में 26 मई को विज्ञान दिवस घोषित किया। नेशनल स्पेस सोशायटी ने वर्ष 2013 में उन्हें अंतरिक्ष विज्ञान सम्बंधित परियोजनाओं के कुशल संचलन और प्रबंधन के लिये वॉन ब्राउन अवार्ड से पुरस्कृत किया।

27 जुलाई 2015 की शाम अब्दुल कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में 'रहने योग्य ग्रह' पर एक व्याख्यान दे रहे थे जब उन्हें जोरदार कार्डियक अरेस्ट (दिल का दौरा) हुआ और ये बेहोश हो कर गिर पड़े। लगभग 6:30 बजे गंभीर हालत में इन्हें बेथानी अस्पताल में आईसीयू में ले जाया गया और दो घंटे के बाद इनकी मृत्यु की पुष्टि कर दी गई। अस्पताल के सीईओ जॉन साइलो ने बताया कि जब कलाम को अस्पताल लाया गया तब उनकी नब्ज और ब्लड प्रेशर साथ छोड़ चुके थे। अपने निधन से लगभग 9 घण्टे पहले ही उन्होंने ट्वीट करके बताया था कि वह शिलोंग आईआईएम में लेक्चर के लिए जा रहे हैं। कलाम अक्टूबर 2015 में 84 साल के होने वाले थे।
कलाम साहब के अंतिम पल जब उन्हे भाषण के दौरान स्ट्रोक आया 

उन्होने ने कुछ महत्वपूर्ण और प्रेरणा दायक बाते काही –

“...मैं यह बहुत गर्वोक्ति पूर्वक तो नहीं कह सकता कि मेरा जीवन किसी के लिये आदर्श बन सकता है; लेकिन जिस तरह मेरी नियति ने आकार ग्रहण किया उससे किसी ऐसे गरीब बच्चे को सांत्वना अवश्य मिलेगी जो किसी छोटी सी जगह पर सुविधाहीन सामजिक दशाओं में रह रहा हो। शायद यह ऐसे बच्चों को उनके पिछड़ेपन और निराशा की भावनाओं से विमुक्त होने में अवश्य सहायता करे।..”
                                                                                                            डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम
“2000 वर्षों के इतिहास में भारत पर 600 वर्षों तक अन्य लोगों ने शासन किया है। यदि आप विकास चाहते हैं तो देश में शांति की स्थिति होना आवश्यक है और शांति की स्थापना शक्ति से होती है। इसी कारण प्रक्षेपास्त्रों को विकसित किया गया ताकि देश शक्ति सम्पन्न हो। “
                                                                                                            डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम
दोस्तो उन्होने अपने जीवन मे कभी भी धर्म और जाती मे भेद भाव नहीं किया शायद इसलिए आज हर जाती और धर्म के लोग उन्हे अपना आदर्श मानते है ।
Source 
Wikipedia



दोस्तो अगर आपको ये आर्टिक्ल पसंद आया तो Like Comment Subscribe और share करना न भूले इससे हमे और भी बेहतर आर्टिक्ल लिखने की प्रेरणा मिलेगी । 


Share:

Interesting Facts About A P J Abdul Kalam


Dr. A P J Abdul Kalam 

दोस्तो डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम एक ऐसा नाम जो भारत के हर नागरिक बड़े शान से लेता है हमे गर्व है की अब्दुल कमाल हमारे का जन्म हमारे देश मे हुआ ।

दोस्तो उनके जीवन के बारे मे तो हर कोई जानना चाहता है हर कोई उनके तरह बनना चाहता है । आज मैं आपको बताऊंगा डॉ अब्दुल कलाम के जीवन की कुछ रोचक जानकारी जिसे पढ़ कर आपको गर्व होगा और सायद आप इन्हे अपने जीवन मे ग्रहण भी करने लगे । और कलाम साहेब के लिए सम्मान और बढ़ जाए और हमे नाज होने लगेगा अपने भारतीय होने पर हमे गर्व होगा के हम उस देश मे रहते है जहां कलाम जैसे महान रहते है । 

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का  भारत के अंतरिक्ष और रक्षा विभाग के लिए किए गए योगदान को, किसी भी विश्लेषण द्वारा समझाया नहीं जा सकता। इनके इस अतुलनीय योगदान के कारण ही  इन्हें मिसाइल मैन (Missile Man of India) के नाम से भी जाना जाता है। विज्ञान की दुनिया में चमत्कारिक प्रदर्शन के कारण ही डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के लिए राष्ट्रपति भवन के द्वार स्वत: ही खुल गए थे। और हम उन्हे भारत के पूर्व राष्ट्रपति के रूप मे भी जानते है ।
उनेक जीवन के कुछ अति शोभनीय तथ्य कुछ इस प्रकार है –

  • डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने इमारत की दीवार पर  टूटे हुए शीशों के टुकड़े लगाने के सुझाव को ठुकरा दिया था। क्योकि इससे दीवार पर बैठने वाले पक्षियों को चोट लग सकती थी



यह बात उस समय की है, जब डॉ एपीजे अब्दुल कलाम डिफेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन (DRDO) में काम कर रहे थे। तब भवन की सुरक्षा के लिए उनके साथ काम कर रहे अन्य लोगों ने इमारत की दीवार पर टूटे हुए शीशों के टुकड़े लगाने के बारे में सुझाव दिया। लेकिन जब यह बात डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को पता चली, तब उन्होंने ऐसा करने से सबको रोक। क्योकि ऐसा करने से, उस दीवार पर बैठने वाले पक्षी घायल हो सकते थे।
  • इस घोषणा के तुरंत बाद कि डॉ कलाम देश के अगले राष्ट्रपति हो सकते हैं, वह एक स्कूल में भाषण देने गए । वहाँ बिजली कट जाने के कारण, उन्होंने कैसे स्थिति को नियंत्रित किया।


उस समय स्कूल में, लगभग 400 विद्यार्थी डॉ कलाम का भाषण सुनने आये थे, लेकिन तभी वहां बिजली चली गयी। लेकिन डॉ कलाम ने अपना भाषण नहीं रोका, वह भीड़ के बीच में चले गए और अपनी बुलंद आवाज में वहीं से अपना भाषण पूरा किया।
  • राष्टपति कलाम ने अपने जीवन भर की बचत और वेतन, एक संस्था PURA (जिसका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में शहरी सुविधाएं उपलब्ध कराना है) को दे दिया।

भारत सरकार, वर्तमान राष्ट्रपति के साथ-साथ सभी पूर्व राष्ट्रपति का ख्याल रखती है। इसलिए जब डॉ एपीजे अब्दुल कलाम, राष्ट्रपति बने तो उन्होंने अपने जीवनभर की कमाई, PURA नामक संस्था को दे दिया। डॉ कलाम ने  डॉ वर्गीज कुरियन (अमूल के संस्थापक) को फोन किया और यह पूछा कि अब मैं इस देश का राष्ट्रपति हूँ और भारत सरकार, मेरे जीवित रहने तक, मेरा ख्याल रखेगी, इसलिए मैं इस बचत और वेतन का क्या करूँगा?
  • एक बार, जब कुछ युवाओं और किशोरों ने, राष्ट्रपति कलाम से मिलने का अनुरोध किया, तब राष्ट्रपति ने न केवल उन्हें अपना कीमती समय दिया, बल्कि उनके विचारों को गौर से सुना भी!



  • राष्ट्रपति कलाम ने, खुद अपने से धन्यवाद कार्ड लिखा!


एक बार एक व्यक्ति ने डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का स्कैच बना कर उन्हें भेजा। उन्हें यह जान कर बहुत आश्चर्य हुआ कि डॉ कलाम ने खुद अपने हाथों से उनके लिए एक संदेश और अपना हस्ताक्षर करके एक थैंक यू कार्ड भेजा है।
  • डॉ कलाम का बच्चों के प्रति प्यार



एक बार डॉ कलाम, आईआईएम अहमदाबाद गए थे। समाहरोह के बाद, उन्होंने 60 बच्चों के साथ खाना खाया। लंच ख़त्म होने के बाद, बच्चें उनके साथ एक फोटो खिचवाना चाहते थे। लेकिन कार्यक्रम के आयोजको ने, बच्चों को ऐसा करने से रोका। डॉ कलाम, खुद आगे बढ़कर बच्चों के साथ फोटो खिचवाई, यह देखकर सभी को बहुत आश्चर्य हुआ।
जब डॉ कलाम डीआरडीओ में काम कर रहे थे, तब एक बार उनके नीचे काम कर रहे एक वैज्ञानिक ने, अपने बच्चों को प्रदर्शनी ले जाने का वादा किया। लेकिन काम के दबाव के कारण, वह बच्चें को प्रदर्शनी में नहीं ले जा सका। जब यह बात, डॉ कलाम को पता चली तो  उन्हें बहुत हैरानी हुई और वह खुद उस वैज्ञानिक के बच्चों को प्रदर्शनी में लेकर गए।
  • एक बार डॉ कलाम ने एक कुर्सी पर बैठने से मना कर दिया।


आईआईटी वाराणसी के दीक्षांत समारोह में, डॉ कलाम को मुख्य अथिति के रूप में बुलाया गया। स्टेज पर 5 कुर्सियां रखी थी। बीच वाली कुर्सी, डॉ कलाम की थी और बाकि चार विश्वविद्यालय के शीर्ष अधिकारियों के लिए। डॉ कलाम ने यह देखा कि उनकी कुर्सी, अन्य की तुलना में थोड़ी ऊची थी। तब उन्होंने इस पर बैठने से मना कर दिया और उस पर विश्वविद्यालय के कुलपति को बैठने के लिए अनुरोध किया। 

  • राष्ट्रपति कलाम ने राष्ट्रपति बनने के बाद केरल की अपनी पहली यात्रा के दौरान केरल राजभवन में किसे राष्ट्रपति मेहमान के रूप में आमंत्रित किया?


सड़क के किनारे बैठने वाला मोची
छोटे से होटल के मालिक
  • यह उनकी, भारत के अंतरिक्ष और रक्षा विभाग में योगदान की सबसे महत्वपूर्ण कहानी है।


डॉ कलाम, उन कुछ वैज्ञानिकों में से एक हैं जिन्होंने बहुत पहले ही इसरो के साथ काम करना शुरू कर दिया था।  1970 और 1980 के दशक में कोई बुनयादी सुविधा न होने के कारण रॉकेट के भागों और पूरे उपग्रहों को ले जाने के लिए, साइकिल और बैल गाड़ियों का इस्तेमाल किया जाता था और डॉ कलाम ऐसे समय में देश के लिए अंतरिक्ष विज्ञान में महत्वपूर्ण योगदान देकर देश को विश्व के अग्रणी देशों में ला खड़ा किया।
साइकल पर मिसाइल ले जाते अब्दुल कलाम 
वास्तव में, डॉ कलाम एसएलवी-III (अंतरिक्ष प्रक्षेपण यान) और पीएसएलवी, स्वदेश में विकसित करने वाले प्रोजेक्ट के निदेशक थे, जो आज भी चंद्रमा और मंगल ग्रह मिशन के लिए प्रयोग किया जाता है। 1980 में, एसएलवी-III को  सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा के पास रोहिणी उपग्रह में भेजा गया था और भारत अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बना था।

ISRO और DRDO में काम करते हुए, डॉ कलम ने AGNI और PRITHVI जैसी मिसाईल बनाई। इन्हीं के नेतृत्व में, पोखरण-द्वितीय परमाणु परीक्षण हुआ और भारत परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्र बना।

इसी प्रकार डॉ कलाम ने विज्ञान के क्षेत्र में कई अन्य महत्वपूर्ण कार्य कियेजिसे हम भूल नहीं सकते। डॉ कलाम हम सभी के लिए आदर्श है। उनका जीवन कठिनाईओं से भरा था, लेकिन कभी भी उन्होंने हार नहीं मानी। 

किसी भी व्यक्ति ने डॉ कलाम को गुस्से में नहीं देखा और आज डॉ कलाम विश्व में विनम्रता के सबसे बड़े उदाहरण है जिनकी बुराई ढूंढने से भी नहीं मिलेगी ।



 दोस्तो हम सब कलाम तो नहीं बन सकते लेकिन उनके बताए रास्ते पर चल कर उन्हे याद तो कर ही सकते है  


source 
Happy Hindi
दोस्तो अगर आपको ये आर्टिक्ल पसंद आया तो Like Comment Subscribe और share करना न भूले इससे हमे और भी बेहतर आर्टिक्ल लिखने की प्रेरणा मिलेगी । 





Share:

Success Story of Byju's the Learning App

भारत मे ऐसे कई सारे लोग है जिन्होने कम समय और कम साधनो का इस्त्माल करके सफलता हासिल की है चाहे वो reliance Group के Founder धीरु भाई अंबानी हो या Tata Group के मालिक रत टाटा ऐसे और कई छोटे बड़े हस्तीयों के नाम हम प्रतिदिन सुनते और देखते आते है और इनसे inspire होकर खुद को इनके जैसे सफल Businessman बनने का ख्वाब देखते है।

आज ऐसे ही सफल Businessman के बात करेंगे जो दुनिया के सबसे बड़ी Cricket control Board BCCI के साथ हाथ मिलकर मुख्य Sponsor बनने वाली है।

हम बात कर रहें है भारत की Online Learning App Byju's (बायजू) की । इसका विज्ञापन आप अक्सर TV या Internet पे देखते है जिसे Bollywood के Superstar शाहरुख खान करते है और ये Byju's के Brand Ambassador भी है ।


byju's success story in Hindi


Byju's The online Learning App (बायजू)


क्या है Byju's (बायजू) और कैसे हुई इसकी शुरुआत 

इसकी शुरुआत भारत के Bengluru मे रहने वाले  Byju Raveendran ने की जो कालीकल यूनिवर्सिटी से मकैनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर एक शिपिंग कंपनी में नौकरी करते थे इस दौरान इन्होने अपने कुछ दोस्तो को Business management के लिए आईआईएम मे दाखिला दिलाने के लिए CAT (Common Aptitude Test) की तैयारी करनी शुरु की बेहतर रिजल्ट्स आने पर रविन्द्रण ने छोटे छोटे बच्चों को बेसिक शिक्षा देने की सोची और गणित और विज्ञान जैसे कठिन विषय की तैयारी करवाने लगे ताकि बच्चो के स्कूल के सफल होने के चांस ज्यादा हों । 

इस दौरान रविन्द्रण ने ये भी अनुभव किया की अगर किसी ग्रेजुएट को शुरुवाती वर्षों से ही बेहतर तरीके से सिखाया जाय तो वे भी CAT,MAT की प्रवेश परीक्षा आसानी से निकाल सकते है । 


इसी सोच को बढाते हुये रविन्द्रण ने 2 लाख रुपए से अपनी कोचिंग क्लास की शुरुआत की और 2011 मे  Think and Learn Private Ltd के नाम से कंपनी बनाई और इसका Brand Name रखा Byju's (बायजू)। इसके बाद रविन्द्रण अलग अलग शहर मे जाकर कोचिंग क्लास लेने लगे । बाद में उन्होंने सोचा कि क्यों न एक ही जगह रहकर अपने सभी छात्रों तक पहुंचा जा सके। यहीं उन्होंने पहली बार 2009 में CAT के लिए Online Video Based learning Program शुरू किया। यह ऐसा आइडिया था, जिसके बाद से उनका एक नया सफर हुआ।


2015 मे लॉंच हुआ Byju’s -The leaning App

कंपनी का फोकस CAT के अलावा चौथी से 12वीं क्लास के छात्रों को Online Coching Provide करने पर था। उनकी कोचिंग में छात्रों की संख्‍या बढ़ने लगी। 2015 में उन्होंने अपना ब्रांडेड प्रॉडक्ट Byju’s -The learning App लॉन्च किया। यह उनके लिए गेमचेंजर साबित हुआ। स्मार्टफोन की बढ़ती लोकप्रियता के बीच उनका यह एप भी पॉपुलर होता गया और तीन महीने के अंदर इस App के जरिये 20 लाख Student जुड़ गए और December 2016 मे ये App Google Play store मे Best Self Improvement App बन गया। 

इसकी लोकप्रियता को देखते हुये 2016 में Facebook फाउंडर Mark Zuckerberg और उनकी पत्नी Priscilla Chan की संस्था 'Chan Zuckerberg Initiative' और चार वेंचर कैपीटल पाटनर्स ने Byju’s में 5 करोड़ डॉलर (तब 330 करोड़ रुपए) का निवेश किया। 

इसके द्वारा छात्र Online Study material प्राप्त कर सकते है कुछ free है लेकिन Advance Services के लिए कुछ fee चुकाने पड़ते है । वर्तमान मे Byju’s  Learning App से तरीबन 2 करोड़ Student जुड़े है जिसमे 13 लाख Paid Subscribers है और हर महीने 25000 नए Students भी जुडते है। 


कितना है सालाना Revenue ?

Byju’s  की शुरुआत 2011 मे 2 लाख रुपए के निवेश के साथ हुई थी और प्रत्येक वर्ष इसकी revenue बढ़ती गई 2011-12 में रेवेन्यू 4 करोड़ रुपए था, जो 2012-13 में बढ़कर 12 करोड़, 2013-14 में बढ़कर 20 करोड़, 2014-15 में बढ़कर 48 करोड़ और 2015-16 में बढ़कर 120 करोड़ रुपए हो गया। यह 2016-17 में बढ़कर 260 करोड़ रुपए हो गया। अब कंपनी का हर महीने रेवेन्यू 100 करोड़ रुपए से ज्यादा है। वित्त वर्ष 2018-19 में Byju’s का रेवेन्यू 1430 करोड़ रुपए रहा है। 

Byju’s के सफलता का अंदाजा इसी बात पे लगाया जा सकता है की 8 वर्ष पहले 10 कर्मचारी 2 लाख रुपए की  कंपनी और 8 साल बाद 1000 कर्मचारी 1400 करोड़ की कंपनी बन गई । 

इतना ही नहीं दुनिया की सबसे धनी Cricket Board यानि BCCI का मुख्य Sponsorship बनने का दर्जा हासिल कर पाना खुद मे एक मिशाल है । 


Byju’s ने BCCI से किया बड़ा डील 

चीन की सबसे बड़ी Mobile company oppo ने BCCI के साथ अपना Sponsorship डील खत्म करने का निर्णय लिया है और साथ ही साथ Oppo ने ये डील Byju’s को सौप दिया है यानि दर्शकों को भारतीय पुरुष Cricketers के जर्सी मे अब Oppo की जगह Byju’s लिखी नजर आयेगी । 

Oppo को 2017 मे 5 वर्ष के लिए ये Sponsorship दी गई थी लेकिन Oppo इस डील मे नुकसान होने का आशंका जताई थी इसलिए इस डील को बीच मे ही तोड़ दी गई और  Sponsorship Byju's को दे दी गई । 

Oppo बीसीसीआई को प्रत्येक द्विपक्षीय मैच के 4.61 करोड़ रुपए देता था, जबकि एक आईसीसी इवेंट के 1.56 करोड़ रुपए देता था। अब आगे BCCI को पैसे Byju's करेंगी । नए ब्रांड नेम वाली जर्सी इंडिया - साउथ अफ्रीका दौरे के दौरान नजर आएगी।





Source - Wikipedia,Money bhaskar,Byju's 

आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in.

Share:

Government e Marketplace in Hindi - What is GeM

government e marketplace in hindi

Hello friends अगर आप एक व्यापारी (Businessman) है और किसी उत्पादों की Manufacturing करते है तो भारत सरकार आपके उत्पादों के Buyers (खरीदार) ढूंढने मे आपकी मदद करेगी तो आइये जानते है कैसे जुड़े सरकार के Online E-Marketplace से - 

E-Marketplace (GeM) Portal

Central Government ने छोटे कारोबार को बढ़ावा देने और सरकारी कंपनियों के लिए Startup से 25 % सामान अनिवार्य रूप से खरीदने के उद्देश्य से सरकारी E-Marketplace (GeM) Portal शुरू किया है। इससे Medium & Small Enterprises (MSE) वाले Businessman बड़ा फायदा हो रहा है। 

इस सरकारी पोर्टल पर Registration के बाद आपको को घर बैठे Buyers (खरीदार) मिलने लगेंगे । यदि आप भी अपना व्यापार कर रहे हैं तो इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराकर घर बैठे खरीदार पा सकते हैं।


क्या है GeM

What is GeM ?

GeM यह एक Government की अपनी Online Platform है जो किसी भी प्रकार का सामान और सेवाएं प्रदान करने के लिए एक माध्यम की भूमिका निभाता है। इसकी शुरुआत 2016-17 में की गई थी और इसके बाद इसमे Sellers (बेचनेवाले) और Buyers (खरीदनेवाले)  की संख्या लगातार बढ़ रही है। वर्तमान मे इस Portal मे पर 37 हजार से ज्यादा Byers और 2.5 लाख से ज्यादा Sellers और Service provider रजिस्टर्ड हैं। इस प्लेटफॉर्म पर 10 लाख से ज्यादा Product और 13 हजार से ज्यादा Services उपलब्ध हैं। शुरुआत मे इसके द्वारा तकरीबन 420 करोड़ रुपए के Order दिए गए जो दूसरे साल बढ़कर 6 हजार करोड़ रुपए पर पहुंच गए। तीसरे साल 2018-19 में GeM पर कुल Order 32 हजार करोड़ रुपए के पार पहुंच गए। GeM ने इस साल अपने ऑर्डर 1 लाख करोड़ के करीब पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है।



इस समय GeM पर 42 हजार से ज्यादा MSE जुड़े हैं। GeM पर दिए जाने वाले कुल Orders में MSE  की हिस्सेदारी 45 फीसदी के करीब है। इसका कारण यह है कि केंद्र-राज्य सरकारों के मंत्रालय और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के लिए एमएसई से 25 फीसदी खरीदारी अनिवार्य की गई है। यह मंत्रालय और सरकारी कंपनियां GeM पर Registered MSE से ही खरीदारी करती हैं।


कैसे करें Registration ?

How to registered with GeM ? 





  • जीईएम पर रजिस्ट्रेशन कराने के लिए https://mkp.gem.gov.in/registration/signup#!/seller पर Sign Up करें  और User ID प्राप्त करें । 
  • इसके लिए आपको Aadhaar/PAN, Mobile Number और email id की आवश्यकता होगी।
  • Registration करने के बाद Login करें ।
  • यहां अपने Profile पर अपना Office Address, Bank account Number,Experience आदि Details दर्ज करें।
  • अपने Dashboard के Catalog Option में Product या Services चुने, जिन Products और Services को आप बेचना चाहते हैं।
  • GeM पर आप खुद Registration कर सकते हैं और यह पूरी तरह से मुफ्त हैं। इसके लिए आप किसी को भी पैसा ना दें।
  • रजिस्ट्रेशन करने के लिए आप अन्य शर्तों की जानकारी आधिकारिक वेबसाइट https://gem.gov.in पर जाकर ले सकते हैं।



जीईएम के साथ करेंगे कारोबार तो कभी नहीं होगा घाटा, घर बैठे मिलेंगे खरीदार



आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in


Share:

Most richest cricketers in India

वर्तमान मे पूरे दुनिया मे क्रिकेट सबसे लोकप्रिय खेल बन गया है क्रिकेट के प्रसंशक दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है और भारत मे इस दौड़ मे सबसे आगे है भारत की Cricket Control Board (BCCI)दुनिया की सबसे अमीर Cricket Board है जाहीर है इसके खिलाड़ी भी उतने ही अमीर होंगे 
तो आइये जानते है भारत के किस Cricket खिलाड़ी के पास है सबसे अधिक पैसा -
India's Most Richest Players

www.knowledgepanel.in


India's Most Richest Cricket Players 

भारत के सबसे अमीर क्रिकेट खिलाड़ी


भारत के टॉप 10 Cricketers जो है सबसे अमीर
शुरुआत करते है 10 वें नंबर से



10th स्थान पर है  Ravichandran Ashwin (रविचंद्रन अश्विन)

Ravichandran Ashwin and VVS Laxman


R Ashwin भारतीय क्रिकेट टीम और IPL मे बेहतरीन गंदबाजी और बल्लेबाजी के लिए जाने जाते है । तमिलनाडू के रहने वाले अश्विन अपनी Engineering की पढ़ाई छोड़ 2008 मे IPL (Chennai Supar King) और 2010 मे टीम इंडिया मे शामिल होकर अपने करियर की शुरुआत की और देखते ही देखते 132 करोड़ के मालिक बन गए क्रिकेट खेलने के अलावा अश्विन कई बड़े ब्रांड के Brand Ambassador है जहां से इनकी अच्छी ख़ासी कमाई आती है ।

9Th स्थान पर है Rohit Sharma (रोहित शर्मा)

Rohit Sharma


भारतीय क्रिकेट टीम के Vice Caption और IPL मे Mumbai Indians के Caption रोहित शर्मा के पास  135 करोड़ की संपत्ति है ये क्रिकेट के अलावा कई बड़े उत्पादो के विज्ञापन को प्रमोट भी करते है । नागपुर महाराष्ट्र के रहने वाले रोहित शर्मा दाए हाथ के सलामी बल्लेबाज है ।

8th स्थान पर है Gautam Gambhir(गौतम गंभीर)


Gautam Gambhir and Indian President Ramntha Govind

150 करोड़ के मालिक गौतम गंभीर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज और पूर्वी दिल्ली के भाजपा सांसद भी है । इसके अलावा इनका अपना Textile का फैमिली Business है और ये Gambhir Foundation भी चलाते है ।


7th स्थान पर है Yuvraj Singh (युवराज सिंह)

Yuvraj Singh 

क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से Retirement ले चुके युवराज कई बड़े Sports और Electronics ब्रांड के Brand Ambassador है । 155 करोड़ के मालिक युवराज कैंसर जैसे गंभीर बीमारी से निजात पा ली और वर्तमान मे वे कैंसर पीड़ित लोगों की सेवा के लिए जीवन व्यतीत कर रहे है ।


6th स्थान पर है Yusuf Pathan (युसुफ पठान )

Yusuf Pathan

भारतीय क्रिकेटर इरफ़ान पठान के बड़े भाई और गुजरात के रहने वाले Yusuf Pathaan 170 करोड़ के संपत्ति के मालिक है । भारतीय क्रिकेट टीम और IPL मे खेलने के अलावा युसुफ पठान अपने भाई Irfaan Pathan के साथ मिलकर Cricket Academy of Pathans (CAP) भी चलाते है ।

5th स्थान पर है Virender Sehwag (वीरेंद्र सहवाग)


Virender Sehwag

भारत के सबसे अमीर क्रिकेटर मे शामिल सहवाग 255 करोड़ के संपत्ति के मालिक है । क्रिकेट के विस्फोटक बल्लेबाज के नाम से प्रसिद्ध वीरेंद्र सहवाग दिल्ली के रहने वाले है और हरियाणा के झ्झर मे एक Sports Academy है इसके आलवे इनका एक Restaurant भी है ।


4th स्थान पर है Sourav Ganguly(सौरव गांगुली)


Sourav Ganguly


340 करोड़ के संपत्ति के मालिक बंगाल टाइगर के नाम से जाने वाले भारत के बेहतरीन पूर्व Cricketer सौरव गांगुली बंगाल के Royal Family से आते है इनके पिता का बंगाल मे प्रिंटिंग प्रेस का कारोबार है और जो बंगाल के सबसे रईस व्यक्ति मे एक है । इसके अलावा सौरव गांगुली के Cricket Academy और Restaurant भी है ।




3rd स्थान पर है Virat Kohli (विराट कोहली)


Virat Kohli

Indian Cricket Team के कप्तान ,Indian Super League (ISL) मे Football Club Goa (FC Goa)  और Pro Wrestling League मे Bengluru Yodhas Franchise टीम के Co-Owner विराट कोहली के पास 480 करोड़ की संपत्ति है इसके अलावा कोहली कई सारे ब्रांड को Promote भी करते है । दिल्ली के रहने वाले विराट Social Media पर एक Branded Post के लिए 3 करोड़ रुपए लेते है ।


2nd स्थान पर है Mahendra Singh Dhoni (महेंद्र सिंह धोनी)


Mahendra Singh Dhoni

हर भारतीय क्रिकेट प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाले भारतीय क्रिकेट टीम के बेहतरीन विकेट कीपर बल्लेबाज M S Dhoni संपत्ति मे भी दूसरे स्थान पर है 1050 करोड़ की मालिक धोनी सभी बड़े और ब्रांडेड उत्पादो और कंपनी के Brand Ambassador रह चुके है ,रांची ,झारखंड मे जन्मे धोनी Indian Super League (ISL) मे chennaiyin fc और Hockey India League (HIL) मे Ranchi Rays टीम के Co-Onwer है । 


1st स्थान पर है Sachin Tendulkar(सचिन तेंदुलकर)


Sachin Tendulkar

God of Cricket (क्रिकेट का भगवान),भारत रत्न,मास्टर ब्लास्टर ना जाने ऐसे कई नाम से जाने वाले सचिन तेंदुलकर सिर्फ क्रिकेट मे ही नंबर वन नहीं बल्कि कमाई मे भी नंबर वन है । 1300 करोड़ के संपत्ति के मालिक सचिन कई सारे बड़े ब्रांड के Brand Ambassador के साथ साथ मुंबई के दो बड़े होटल मे इनकी partnership है इसके अलावा Indian Super League (ISL) के Kerela Blaster और Premier Badminton League (PBL) मे Bengaluru Raptors के Co-Onwer है । 

इन आकड़ों से यही निष्कर्ष निकल कर आता है की अगर आप बेहतर Cricket खेलते है और क्रिकेट मे अपना करियर बनाना चाहते है तो कम समय मे आप भी पैसा और नाम दोनों कमा सकते है । 


Click Here- जानिए Internet पर क्या क्या मिलता है Free मे । 


आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in.



Share:

Featured Post

Top amazing facts in hindi its amazing facts of life

क्या आप जानते है की कोई भी इंसान अपनी सांस रोक कर खुद को नहीं मार सकता ! नींबू मे स्ट्रोबेरी से ज्यादा शक्कर होती है ? आज Knowledge Pa...

Translate