Search This Blog

cheque bounce reasons.Cheque bounce hone par kya kare in hindi

How to protect myself from cheque bounce

Hello Friends वर्तमान मे Digital Payment का चलन बहुत बढ़ गया है हर कोई पैसे के लेन देन के लिए Digital Platform जैसे UPI,Mobile Banking,Internet Banking etc का इस्त्माल करते है और कई लोग Payment Transfer के लिए Cheque कर प्रयोग भी करते है लेकिन कभी कभी Digital Technology दगा दे जाती है और आपका Cheque Bounce कर जाता है ।


Cheque Bounce होने पर कैसे करें अपना बचाव


How to protect myself from cheque bounce

तो आइये इसी Segments मे जानते है अगर आपका Cheque बाउन्स हो गया तो आपको क्या करना चाहिए।
सबसे पहले आप ये जान ले की Cheque Bounce होना क्या होता है और भारतीय कानून मे Cheque Bpunce होने के क्या प्रक्रिया है एवं इससे जुड़ी सारी जानकारी


Cheque बाउन्स होना क्या होता है ?

जब कोई देनदार व्यक्ति किसी लेनदार को पैसे के भुगतान के लिए Cheque Issue करता है और किसी कारणवश लेनदार को उसे जारी किए गए Cheque के द्वारा पैसे का भुगतान नहीं होता है तो वो cheque Bounce होना कहलाता है इसे Cheque Return होना भी कहा जाता है


Cheque क्यूँ जारी की जाती है

कोई भी व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को Cheque निम्नलिखित कारणो से जारी करता है

  • अगर किसी व्यक्ति ने दूसरे व्यक्ति से पैसा या सामान लिया, तो वह पैसा लौटाने या सामान की कीमत चुकाने के लिए Cheque देगा।
  • अगर किसी ने Trust या NGO को Cheque के जरिए डोनेशन किया।
  • किसीBusiness में Security के तौर पर पैसा जमा कराने के लिए Cheque जमा किया।

किन कारणो से होता है Chaque Bounce

भारतीय बैंक के अनुसार Cheque bounce या Return होने के 92 कारण है लेकिन जो सबसे मुख्य कारण है वो है Funds insufficient जिसके कारण ज़्यादातर Cheque Return होते है ।
सभी 92 कारणों की जानकारी के लिए दिये गए Link पे click करें

Click Here and Get Details -  92 Reasons of Cheque Bounce 

What will happens ,when your deposited cheque will bounceक्या होगा अगर आपका Cheque Bounce हो जाएगा ?

Chaque Bounce हो जाने पर Bank cheque जमा करने वाले और Cheque जारी करने वाले दोनों से दंड स्वरूप 100 से 1000 रूपय तक वसूलती है । अलग अलग बंकों के Penalty Charges अलग अलग अलग है । आपका CIBIL Score पे भारी गिरावट आ जाएगी ।  

Click Here- Know About chaque Bounce Charges 

क्या कहता है कानूनWhat does the law say

भारत मे Cheque Bounce के लिए एक Law है- Negotiable Instruments Act (नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट्स एक्ट), 1881. इसके Section 138 के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति जो पैसे का देनदार (Admitted Liability)और उसने पैसे के भुगतान के लिए किसी के नाम Cheque जारी किया है, तभी इस चेक के बाउंस होने पर यह कार्रवाई के दायरे में आएगा। यानी अगर आपको किसी के रुपए लौटाने हैं या कोई पेमेंट करना है, जिसे आपने स्वीकार किया है, उस मामले में चेक बाउंस होने पर Negotiable Instruments Act, 1881 के तहत आप पर केस दर्ज किया जा सकता है।


Cheque Bounce होने का Case क्यूँ दर्ज होता है ?

अगर दो पार्टियों के बीच कोई लेन-देन या कोई Business हुआ हो और Cheque उस लेन-देन के भुगतान के लिए जारी किया गया हो, तब उसके बाउंस होने पर Section 138 लागू होगा।

माना की, किसी व्यक्ति ने अपने दोस्त की मदद करने के लिए उसे पैसा दिया और दोस्त ने वह पैसा वापस करने के लिए चेक दिया। अगर वह चेक बाउंस हो जाता है, तो इस मामले में Section 138 के तहत मामला दर्ज होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि मदद के लिए दिया गया पैसा , Loan यानी उधार माना जाता है। Loan के  के लिए अगर कोई Cheque दिया जाता है और वह बाउंस हो जाता है, तो Section 138 लगता है।


Cheque Bounce का case दर्ज नहीं होगा -

अगर अपने किसी को Security के तौर पे Cheque जारी किया है और Security Cheque लेने वाला व्यक्ति उस Cheque को cash करता है जिस दौरान वो Cheque Bounce हो गया तो इस स्थिति cheque Bouncing का कोई Case दर्ज नही होगा ।


ऐसे और भी कुछ मामले है जिसमे Cheque Bouncing का Case दर्ज नहीं होगा जैसे -


  • अगर Cheque ,Advance के तौर पर दिया गया है।
  • अगर Cheque ,Security के तौर पर दिया गया है।
  • अगर Cheque ,में Number और word मे लिखा गया Amount अलग-अलग है।
  • अगर Cheque ,किसी Charitable Trust को Gift या Donation के तौर पर दिया गया है।
  • अगर Cheque ,Distorted यानि फटा पुरानी अवस्था में मिलता है।


तो ध्यान रहे अगली बार जब किसी को Cheque जारी करें तो ये ध्यान रखे की आप किन कारणों से cheque जारी कर रहे है ताकि Cheque bounce होने पर आप Cheque Bouncing के case से बच सकें ।


क्या करें अगर आपका Chaque Bounce ओ जाए ?

माना की आपको किसी राशि के भुगतान के लिए आपके नाम से Cheque जारी की गई और आपने उसे अपने Bank Account में 10 May को जमा कराया और 11 May को आपके बैंक ने Cheque Bounce की सूचना आपको दी, तो इसके 30 दिन के अंदर (11 May से 11 June के बीच) आपको Cheque देने वाली पार्टी को Legal Notice भेजना होगा। इसमें आपको बताना होगा कि आपने अपनी देनदारी को खत्म करने के लिए जो Cheque दिया था, वह मैंने बैंक में जमा कराया, लेकिन वह बाउंस हो गया। लिहाजा आप मुझे Interest सहित देय राशि लौटाएं।

अगर आपने 21 May यानि 15 दिन के बाद यह Notice भेजा, तो दूसरी पार्टी Notice मिलने के 15 दिनों के अंदर आपको पैसे लौटाने के लिए बाध्य है। Notice भी आपको Registered Post से ही भेजना होगा, ताकि आप उसे Track कर सकें। इसे आपको Court में भी बताना पड़ता है, कि Notice उस पार्टी तक पहुंच गया है।

अगर दूसरी पार्टी के पास 25 May को नोटिस पहुंचता है, तो उस पार्टी को 10 June तक आपके पैसे ब्याज सहित लौटाने होंगे।

अगर दूसरी पार्टी ने इन 15 दिनों के अंदर (10 June तक) पैसा नहीं लौटाया, तो आप एक महीने के अंदर-अंदर (10 जून से 10 जुलाई तक) मजिस्ट्रेट के सामने उस पार्टी के खिलाफ Cheque Bounce होने की  Complained दर्ज करा सकते हैं।


तो इस प्रकार अगर आप Chaque Bounceing के झमेले मे फस गए तो घबराए नहीं बल्कि Bouncing के नियम और कानून समझे और समाधान करें , क्यूंकि जानकारी ही बचाव है । 


Knowledge Sources - Google 
Presented By - Knowledge Panel 
Edited By - Angesh Upadhyay 



आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in.

Like us on Facebook -  Facebook Click Here
Subscribe on YouTube -  YouTube - Click Here
Like our Entertainment Page -  Thik HaiClick Here
Our Job Panel - Job Panel - Click Here
MI Mobile Phone -MI Mobile Phones
Certified Refurbished Mobiles- Buy Old Smartphones  
High Quality Products at Low Price Best Product you never missed
Mobile Accessories at Low PriceLow price mobile accessories



Share:

Election commission of India 2019 Most expensive Election of the world

General Election 2019

Hello Friends भारत मे Election का माहौल है हर तरफ चुनाव की चर्चा है ये माहौल हर 5 साल मे एक बार आती है जब देश मे सभी  Voters ,Political Leaders , Political Parties , Indian Election Commission एक साथ Busy हो जाते है -

आइये जानते है कैसे होता है दुनिया के सबसे बड़े लोकतान्त्रिक देश भारत मे General Election


भारत मे कुल 90 करोड़ मतदाता है जो इस बार Loksabha Election 2019 मे शामिल होंगे जो 11 April से शुरू होकर 19 May तक कुल 6 चरणो मे 543  सीटों के लिए Election होगा और अंत मे 23 May को ये घोषित होगा कि Indians voters ने किसे दुनिया के सबसे बड़े Democratic देश का शासक चुना है - 

आइये जनके है देश मे कब और कहाँ होंगे General Election 2019 



भारत का सविधान तकरीबन 70 साल पुराना है तो दुनिया के सबसे बड़े Democratic Country,India  मे

कैसे होता है Election का आयोजन ? कितना होता है खर्च ? आइये जानते है पूरी Information - 


तकरीबन 90 करोड़ मतदाता 2019 मे होने वाले General Election मे शामिल होंगे जो 2014 मे हुए Election से ज्यादा है जाहीर है अधिक मतदाता है तो खर्च भी ज्यादा होगा । 2014 मे हुये Election को अब तक का सबड़े महंगा Election माना जाता है । जहां 1951 से 1977 तक हुये Loksabha Election का खर्च 1 रूपये से भी कम था वही 2014 मे ये बढ़ कर 46 रुपए से भी ज्यादा हो गया । 

Times of India मे छपी एक खबर के अनुसार भारत मे देश मे सबसे सस्ता Election 1957 मे हुआ जिसमे सिर्फ 10 करोड़ रुपए खर्च हुये ये देश का दूसरा Loksabha Election था । 2014 मे  हुये Election को सबसे महंगा चुनाव माना जाता है जिसमे कुल 3870 करोड़ खर्च हुये । 


अब आप सोचोगे OMG इतना खर्चा ? 


हाँ ये भी जानिए कैसे होता है इतना खर्च इस खर्च में Poling booth (मतदान केंद्र) की स्थापना, Poling Booth के कर्मचारियों और Votes की Counting करने वाले लोगों का Payments, मतदान केंद्र और मतगणना केंद्र पर लगने वाले अस्थायी टेलीफोन फैसिलिटी लगाने, पक्की स्याही और अमोनिया पेपर खरीदने का खर्च शामिल है।

अब तक चुनावों में इतना रहा है खर्च
वर्ष, खर्च (करोड़ रुपए में)
Year  Expanxes in Cr. 
1951-52 10.45
1957 5.9
1962 7.32
1967 10.8
1971 11.62
1977 23.04
1980 54.77
1984 81.51
1989 154.22
1991 359.1
1996 597.34
1998 666.22
1999 947.68
2004 1016.09
2009 1114.38
2014 3870.35


कैसे बढ़ता है Voting का खर्च ?

जैसे-जैसे आबादी बढ़ती है और वोट करने वाले लोगों की संख्या में इजाफा होता है, Election Commission को ज्यादा मतदान और मतगणना केंद्र स्थापित करने पड़ते हैं। यहां अधिक लोगों को तैनात किया जाता है। अधिक वोटिंग मशीनें व स्याही खरीदनी पड़ती है। ऐसे में Election Commission पर खर्च बढ़ता है। इन सब खर्चों को कुल मतदाताओं में बांटने पर प्रति वोटर खर्च आता है। देश में इस साल 90 करोड़ मतदाता (Voters) मतदान करेंगे। यह आंकड़ा अमेरिका, ब्राजील और इंडोनशिया की कुल आबादी से भी ज्यादा है। यह देश दुनिया के तीसरे, चौथे और पांचवे सबसे ज्यादा आबादी वाले देश हैं।

प्रति वोटर खर्च
वर्ष, खर्च   (रुपए में)
Year Rate Per Voter
1951 52, 0.6
1957 0.3
1962 0.34
1967 0.43
1971 0.42
1977 0.72
1980 1.54
1984 2.04
1989 3.09
1991 7.02
1996 10.08
1998 11
1999 15.3
2004 15.13
2009 15.54
2014 46.4

तो डालिए Vote और हिस्सा बनिए दुनिया के सबसे बड़ी लोकसभा चुनाव का 

is page ko English me padhne ke liye web page pe kahi bhi right Click kare aur choose kare Translate to English and Read to your Own Language

आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment के द्वारा जरूर बताए उम्मीद है आप तक सही जानकारी पहुच पाई । Knowledge Panel से जुड़े रहने के लिए हमारे Facebook Page को Like करे और हमारे YouTube Channel को Subscribe करे । 


Like us on Facebook -  Facebook Click Here

Subscribe on YouTube -  YouTube - Click Here

Like our Entertainment Page -  Thik HaiClick Here

Our Job Panel - Job Panel - Click Here

MI Mobile Phone -MI Mobile Phones

Certified Refurbished Mobiles- Buy Old Smartphones  

High Quality Products at Low Price Best Product you never missed


Mobile Accessories at Low PriceLow price mobile accessories







Share:

Demonetization Most Painful moments of Every Indians

Demonetization Most Painful moments of Every Indians



साल 2016 के नवंबर महीने का वो घटना भारत के इतिहास को बदल कर रख दिया जिसने भारत को पूरे विश्व मे एक अलग पहचान दी । 

जी हाँ दोस्तो आज हम बात कर रहे है नोटबंदी  की,आप अपने जीवन मे कभी ये नहीं भूल पाएंगे की साल 8 नवंबर 2016 की वो रात कुछ देर के लिए ही सही आप पूरी तरह कंगाल हो गए थे । वो पल अब सायद ही कोई महसूस कर पाएगा ।

दोस्तो जरा अपने दिलो दिमाग को उस दिन की तरफ लेकर जाइए क्या कभी अपने सोचा की शाम को जो अपने पैसे कमाये वो रात को किसी काम का नहीं होगा ? 

जेब मे रखा पैसा मानो अपनी अंतिम साँसे गिन रहा हो और आपसे ये कह रहा हो की – मुझे माफ करना भाई मेरे जाने का वक़्त आ गया है। वक़्त भी इतनी दर्दनाक की आप चाह कर भी उसे आगे नहीं बढ़ा सकते । 


दोस्तो शायद हमे उस दिन ये एहसास हो गया की जेब मे रखी ये कागज का टुकड़ा कितना कीमती है। और हम ये सोचने मे मजबूर हो गए की – 

कास की इसे संभाल के सही जगह इस्त्माल किया होता तो आज ये मुझसे दूर ना जा रहा होता,

कास अगर इन कागज के टुकड़े को रिस्वत समझ कर न दिया होता तो आज ये मेरे पास होता ,

कास की इस कागज के टुकड़े को बेवजह जबर्दस्ती अपने पास न रखा होता तो आज ये मेरे पास होता ,

कास की इस कागज के टुकड़े को जमा करने के बजाए दान दे दिया होता तो आज ये मेरे पास होता ,

कास की इस कागज के टुकड़े को खर्च कर कुछ ले ही लेता तो आज ये मेरे पास होता,कम से कम दूर तो न जाता । 

दोस्तो वो दिन किसी के लिए दर्द तो किसी के लिए खुशिया लेकर आया ना लोग समझ पाये की जाऊ कहाँ और ना वो कागज का वो टुकड़ा समझ पाया की कहाँ जाऊ किस किस के पास जाऊ , जो खुद अगले ही पल अपनी खत्म होने वाला है वो क्या करे भला । वो कागज का टुकड़ा जिसे इंसान अपने सीने से लगाए रखा उसे पैसे का नाम दिया,उसे वर्षो संभाल कर रखा,प्यार दिया और आज उसे ही दूर करने मे लगा है ।

दोस्तो भारत सरकार का ये एतिहासिक फैसला किस हद तक सही था इस सवाल का सटीक उत्तर आज तक कोई नहीं दे पाया । लेकिन “ कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है “ इस कहावत को मान कर लोगो ने इस फैसले का स्वागत किया । 


नोटबंदी से फायदा हुआ या नुकसान आइये एक चर्चा करे Knowledge Panel नोटबंदी पर अपनी विचार रखेगी उम्मीद है इस पर आपके विचार जरूर आएंगे । 

दोस्तो भारत के बहुत छोटे लेकिन बहुत बड़े इकाई द्वारा मैं अपनी बात आप तक पहुंचा रहा हूँ इससे किसी को फर्क तो नहीं पड़ेगा लेकिन दोस्तो मिल कर बात करने मे मज़ा जरूर आएगा ।

दोस्तो अगर नोटबंदी से हुए फायदे की बात करे तो इसका फायदा उन लोगो को हुआ जिसने पैसे को जमा तो किया लेकिन समय रहते ही उसे खर्च कर दिया और जब नोटबंदी का वक़्त आया तो पैसे के छोटे से हिस्से को बदल कर अपना जीवन खुशियो से जीने लगे । इसके आलवे फायदा उन लोगो को भी हुआ जो नोट बंदी के बाद बैंक से पैसे बदलवाने के प्रक्रिया को अपने कमाई का जरिया बना लिए,बैंक से हजार के नोट बदलवाने के लिए गरीब और असहाय लोगो से सौ-सौ रुपया ज्यादा लेने लगे । फायदा यही नहीं रुका दोस्तो नोटबंदी मे तो बैंक कर्मचारी की भी चाँदी हो गई जो कर्मचारी महीने मे 10- 20 हजार कमाते थे वो हर रोज 10-20 हजार कमाने लगे । दोस्तो सिर्फ बैंक को ही फायदा नहीं हुआ बैंक के बाहर मेला सा लग गया जिसमे छोटे छोटे व्यापारी अपना व्यापार करने लगे कोई छोले-भटूरे की दुकान लगा ली तो कोई भुजे की दुकान। शायद दोस्तो सरकार का मकसद पूरा हो गया । फायदे तो और भी हुये दोस्तो लेकिन इससे भ्रस्टाचार खत्म नहीं हुआ आज भी लोग घुस दे रहे है ले रहे थे 100 रुपए घुस देकर भी लोग हजार रुपए बदलवा रहे थे । 


दोस्तो अब अगर बात करे नुकसान की तो नुकसान उन लोगो को हुआ जो पैसे जमा तो किए लेकिन इतना जमा कर लिए की उसे खर्च ही ना कर पाये और अंत मे वो पूरी खर्च हो गई वो जहां करोड़ो मे खेल रहे थे नोटबंदी मे 1000 निकालने के लिए बैंक बैंक भटक रहे है। बैंक कर्मचारी जो 8 घंटे काम करते थे वे अब अपना काम 12 घंटे मे भी खत्म ना कर पाये।

दोस्तो अगर हम बात करे नोटबंदी मे सरकार के मकसद की तो सरकार का एक ही मकसद था वो था भ्रस्टाचार जो शायद कम नहीं हुआ।

आखिर कैसे रोका जाए भ्रस्टाचार को ? 

दोस्तो आइये कुछ बिन्दु पर ध्यान दे । 

क्यो ना खाने पीने की छीजो की तरह ही नए नोट की भी Expiry Date तय की जाए ताकि तय समय सीमा के बाद नोट खुदबख़ुद बंद हो जाए जिससे लोग उसे वर्षो जमा करके ना रख पाये और सरकार को दुबारा ऐसा फैसला ना लेना पड़े ।

सरकार को भ्रस्टाचार रोकने के लिए सेना के जवानो जैसे एक टीम बनानी चाहिए जो सिर्फ देश के लिए अपना जीवन जीते है ।

हर विभाग जहां भ्रस्टाचार होने के संभावना ज्यादा है वो CCTV camera से लैस होनी चाहिए और उसका visual जनता के सामने होना चाहिए ।


सरकार को भारत की शिक्षा व्यवस्था पर विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि लोग ये समझ सके की भ्रस्टाचार को रोका कैसे जाए और कैसे इसके अर्थ को समझे ।

दोस्तो भ्रस्टाचार रोकने के उपाए तो बहुत है लेकिन इसपर अमल करना भारत सरकार की ही नहीं हम सब की भी है ।

लेकिन दोस्तो शायद इसे रोकने का इक ही उपाए मुझे लगता है वो है – नोट बदलो देश बदलेगा ,नोट की भी validity होनी चाहिए ताकि वो एक जगह ना रह पाये , देश को लोगो को Digital इंडिया को अपनाना होगा,सरकार को नई Technology विकसित करनी होगी ताकि लोग ये समझ सके की नोट ना हो तो भी लोग पैसे कमा सकते है पैसे बचा सकते है । 

Written By 


Angesh Upadhyay





दोस्तो अगर आपको ये आर्टिक्ल पसंद आया तो Like, Comment, Subscribe और share करना न भूले इससे हमे और भी बेहतर आर्टिक्ल लिखने की प्रेरणा मिलेगी । दोस्तो अगर आपके पास भी है कुछ रोचक कहानी , कोई मुद्दा और जरूरी जानकारी तो हमे बताए हमारी टीम आपके नाम के साथ Knowledge Panel मे Published करेगी। हमे अपना लेख ईमेल- knowledgepanel123@gmail.com


Share:

Happy Mothers Day, Mother's Day quotes

Happy Mother's Day 


दोस्तो दुनिया मे भगवान ईश्वर अल्लाह इन सबसे भी ज्यादा बड़ा दर्जा अगर किन्ही का है तो वो माँ का है।
हमारे पूरे जीवन मे उनका स्थान कोई नहीं ले सकता माँ का प्यार उनकी ममता के बदले आप चाह कर भी कुछ नहीं दे सकते है क्यू की दोस्तो उनके प्यार और ममता के बराबर दुनिया मे कोई दूसरी चीज बनी ही नहीं,जीवन मे उनका दिया ज्ञान कभी खाली नहीं जाता दोस्तो
Share:

Mother's Day kiyu Manate hai. Mother's Day Celebration

International Mother's Day 12 may

Hello friends इस खूबसूरत धरती पर ईश्वर द्वारा बनाई गई सबसे बेहतरीन बनावट मे माँ का स्थान सबसे ऊपर है क्यूंकि माँ ही इस प्रकृति का आधार है इस Nature की बनावट की शिल्पकार अगर कोई है तो वो माँ है । आइये उस माँ के सम्मान मे इस Mother's Day अपना आदर समर्पित करें धरती के शिल्पकर को ।


जानिए क्यूँ मनाते है Mother's Day

When we Celebrate Mother's Day

Mothers Day Quotes & Facts



Mother's Day धरती के हर माँ के सम्मान और पारिवारिक संबंध को मजबूत करने के पूरे दुनिया मे माया जाता है  Mother's Day दुनिया के हर देशो मे अलग अलग Date मे मनाया जाता है ज़्यादातर ये March से May के बीच मनाया जाता है ।

Mother's Day falls on different dates depending on the countries where it is celebrated. It is held on the second Sunday of May in many countries.

माना जाता है की इसकी शुरुआत पुराने ग्रीस युग मे हुई थी उस वक्त Cybele जो ग्रीक देवताओं की माँ थी उनके सम्मान के लिए उनकी पुजा अर्चना की जाती थी उस वक्त से ही मातृ पुजा और मातृ दिवस की शुरुआत हुई ।

प्राचीन रोम वासी मे भी ऐसे कई प्रथा प्रचलित थी जिसमे माताओं को उपहार दी जाती थी ।Europe और Britain जैसे देशों मे कई प्रचलित परम्पराएं हैं जहां एक Special Sunday को Motherhood and Mothers को सम्मानित किया जाता हैं जिसे Mothering Sunday कहा जाता था। Mothering Sunday लितुर्गिकल कैलेंडर का हिस्सा है, जो कई ईसाई उपाधियों और कैथोलिक कैलेंडर में लेतारे सन्डे, चौथे रविवार लेंट में वर्जिन मेरी और "Mother Church" को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता हैं।

परम्परानुसार इस दिन प्रतीकात्मक उपहार देने तथा कुछ परम्परागत महिला कार्य जैसे अन्य सदस्यों के लिए खाना बनाने और सफाई करने को प्रशंसा के संकेत के रूप में चिह्नित किया गया था।  Mother's Day कई देशों मे International Woman's Day के रूप मे 8 March को भी मनाया जाता है ।

America मे सबसे पहले 1870 मे Julia Ward Howe द्वारा उनके द्वारा लिखी पुस्तक "Mother's Day Proclamation" मे America civil War मे के दौरान युद्ध मे शांति बनाए रखने की अपील की साथ ही उन्होने समाज के राजनीति स्तर पर महिलाओं को विशेष स्थान देने की भी अपील की इसी दौरान सर्वप्रथम Mother's Day मनाया गया ।

1912 मे Anna Jarvis ने "Second Sunday in May, Mother's Day" को Trademark बनाया और Mother's Day International Association की स्थापना की ।

Mother's Day दुनिया भर मे अगल अलग तारीख मे मनय जाता है Google के अनुसार British परंपरा के मे इसे May के दूसरे और चौथे Sunday को मनाया जाता है ।

बाद में यह Dates कुछ इस तरह बदली कि वि‍भिन्न देशों में प्रचलित धर्मों की देवी के जन्मदिन या पुण्य दिवस को इस रूप में मनाया जाने लगा। जैसे Catholic countries  में Virgin Mary Day और Islamic Countries में पैगंबर मुहम्मद की बेटी फातिमा के जन्मदिन की तारीखों से इस दिन को बदल लिया गया।

अधिकांश देशों में, Mother's Day हाल ही में पालन की गयी Holidays है जो North America और Europe में विकसित हुई है। जब यह अन्य देशों और संस्कृतियों के द्वारा अपनाया गया था तब इसे दूसरा अर्थ दिया गया, जो अलग घटनाओं (धार्मिक, ऐतिहासिक या पौराणिक) से जुड़े थे और अलग-अलग तारीख या तारीखों पर मनाये जाते थे।

कुछ देशों में पहले से ही मातृत्व का सम्मान करने के लिए समारोह का आयोजन किया जाता था और उन्होंने समारोह का पालन करने के लिए अपनी स्वयं की मां को गुलनार फूल और अन्य उपहार देने के लिए छुट्टियाँ मनाई जाती थी।

इस समारोह को मनाने का अपना-अपना तौर-तरीका हैं। कुछ देशों में अगर Mother's Day के उपलक्ष्य पर अपनी मां को सम्मानित नहीं किया गया तो यह अपराध माना जाता हैं।

कुछ देशों में, यह एक छोटे से प्रसिद्ध त्योहार के रूप में मनाया जाता हैं, जो अप्रवासियों या मीडिया के अनुसार विदेशी संस्कृति (वैसे ही जैसे कि ब्रिटेन और अमेरिका में दिवाली का त्यौहार) की देन हैं।
International Mother's Day 12th May 2019

Mother's Day मनाने का धार्मिक प्रथा

Hindu धर्म मे इसे इसे "माता तीर्थ औंशी" या "Mother Pilgrimage fortnight" कहा जाता हैं हिन्दू राष्ट्र जैसे नेपाल मे इसे विशेष रूप से मनाया जाता है । 

Islam धर्म मे खासकर ईरान मे इस दिन को पैगंबर मोहम्मद की बेटी Fatima Zahar के जन्मदिवस के दिन मनाया जाता है । 

Catholic धर्म मे ये  Virgin Mary को श्रद्धांजली के रूप मे मनाया जाता है 

बौद्ध धर्म मे Mothers Day के उपलक्ष मे Ullambana (उल्लांबना) नाम का Festival मनाया जाता है जिसमे मौदगल्यायन और उसकी माँ को याद किया जाता है 


अलग अलग देशों मे किस तारीख मे मनाई जाती है Mother's Day 

Mother's Day Celebrated in Different Countries ,held on different dates. 


भारत (India)
वर्तमान मे भारत मे भी Mother's Day का चलन हो गया है जो पहले के मुक़ाबले बढ़ा है जो हर साल May के दूसरे Sunday को मनाया जाता है भारतीय इसे किसी Festivals की तरह नहीं मानते लेकिन भारत के शहरी क्षेत्रों मे कुछ राज्यों मे Mother's Day मनाया जाता है । 

नेपाल (Nepal)
Mata Tirtha Aunsi  "माता तीर्थ औंशी", जिसका अनुवाद है "मदर पिल्ग्रिमेज फोर्टनाईट" ("Mother Pilgrimage New Moon") जो बैशाख के महीने के कृष्ण पक्ष में पड़ता हैं। यह त्यौहार अमावस्या के दिन होता है, इसलिए इसे "माता तीर्थ औंशी" कहते हैं। यह शब्द "माता" अर्थात् मां और "तीर्थ" अर्थात् तीर्थयात्रा शब्द से व्युत्पन्न हुआ हैं। यह त्यौहार जीवित और स्वर्गीय माताओं के स्मरणोत्सव और सम्मान में मनाया जाता है, जिसमें जीवित माताओं को उपहार दिया जाता हैं तथा स्वर्गीय माताओं का स्मरण किया जाता हैं। नेपाल की परंपरा में माता तीर्थ की तीर्थयात्रा पर जाना प्रचलित हैं जो काठमांडू घाटी के माता तीर्थ ग्राम विकास समिति की परिधि के पूर्व में स्थित हैं।

इस तीर्थ यात्रा के संबंध में एक किंवदंती हैं। " प्राचीन समय में भगवान श्री कृष्ण की मां देवकी प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए घर से बाहर निकल गयी। उन्होंने कई स्थानों का दौरा किया और घर लौटने में बहुत देर कर दी। भगवान कृष्ण अपनी मां के न लौटने पर दुखी हो गए। वे अपनी मां की तलाश में कई स्थानों पर घूमते रहे परन्तु उन्हें सफलता नहीं मिली। अंत में, जब वह "माता तीर्थ कुंड" पहुंचे तो उन्होंने देखा कि उनकी मां तालाब के फुहार में नहा रही हैं। भगवान कृष्ण अपनी मां को देख कर बहुत खुश हुए और अपनी समस्त शोकपूर्ण घटना जो उनकी माता की अनुपस्थिति में हुई थी उनके आगे कहने लगे। मां देवकी ने कृष्ण भगवान से कहा कि "ओह!बेटा कृष्णा फिर तो इस स्थान को बच्चों की उनकी स्वर्गीय माताओं से मिलने का पवित्र स्थल ही रहने दिया जाये".तब से यह किंवदंती है कि यह स्थान एक पवित्र तीर्थयात्रा बन गया हैं जहां श्रद्धालु एवं भक्तगण अपनी स्वर्गीय माताओं को श्रद्धा अर्पण करने आते हैं। साथ ही यह भी किंवदंती हैं कि एक भक्त ने अपनी मां की छवि को तालाब में देखा और उसके अंदर गिर कर उसकी मृत्यु हो गई। आज भी वहां एक छोटे से तालाब को चरों तरफ से लोहे की सिकल से बांध दिया गया हैं। पूजा करने के पश्चात तीर्थयात्री वहां पूरे दिन गाने-बजाने का संपूर्ण आनद उठाते हैं। इस किंवदंती को साबित करने का ऐसा कोई भी सबूत नहीं है। "

Bolivia 
central South America मे स्थित ये देश मे Mothers Day 27 मई को मनाया जाता हैं। इसे कोरोनिल्ला युद्ध को स्मरण करने के लिए 8 नवम्बर 1927 को कानून पारित किया गया। यह युद्ध 27 मई 1812 को उस जगह हुआ था जो अब कोचाबाम्बा का शहर कहलाता है। इस लड़ाई में, उन महिलाओं का स्पेनिश सेना द्वारा सरेआम कत्ल कर दिया गया जो देश की आजादी के लिए लड़ रही थी।

China (चीन)
चीन मे Mother's Day के चलन पूरे दुनिया मे प्रसिद्ध है जिसमे लोग अपनी माँ को Carnations (गुलनार) के फूल उपहार देते है  ये दिन गरीब माताओं के मदद करने के लिए 1997 मे तय की गई थी खासतौर पे ऐसे माताएँ जो ग्रामीण इलाकों मे रहती है । 

हाल ही के कुछ सालों में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य Li Hanqiu ने मातृ दिवस को Meng Mu , जो  Mèng Zǐ की मां थीं, की याद में कानूनी मान्यता देने के लिए हिमायत की और 100 Confucian scholars and lecturers of ethics की मदद से non-governmental organization बनाया जिसका नाम Chinese Mothers' Festival Promotion Society (चाइनिज मदर फेस्टिवल प्रोमोशन सोसाइटी) है। उन्होंने पश्चिमी उपहार Carnations (गुलनार) के बदले White Lilies देने के लिए कहा जो प्राचीन समय में चीनी महिलाओं द्वारा तब लगाया जाता था जब उनके बच्चे अपना घर छोड़कर जाते थे। अब सिर्फ कुछ छोटे शहरों के अलावा, यह एक अनौपचारिक त्यौहार रह गया है।

थाईलैंड (Thailand)
थाईलैंड में मातृत्व दिवस थाइलैंड की रानी के जन्मदिन पर मनाया जाता है।

रूस (Russia )
यहाँ Public Holiday के रूप मे Mother's Day 8 मार्च को International Women's Day के रूप मे मनाया जाता है । 

Click Here - Why we Celebrate International Women's Day

इस प्रकार ज़्यादातर देशों मे Mother's Day साल के May महीने मे दूसरे Sunday को मनाया जाता है इस साल 2019 मे भी May के Second Sunday 12 May को मनाया जा रहा है । 

इस Mother's Day आइये पढ़ते है कुछ कविता Written by Angesh Upadhyay Author of Knowledge Panel 

“  माँ,अक्सर जब दिल रहता है उदास तो अचानक होता है कुछ प्यारा सा एहसास

क्या वो एहसास तुम हो ?

जीवन मे अगर कही भटक जाऊ तो याद आती है माँ की वो बातें

जब वो प्यार से कहती थी – बेटा न करना ऐसा काम की जीवन मे भटकना पड़े

माँ की बात को काट कर उस राह पे चला जाता और अचानक गिर जाता

लेकिन तभी अचानक एक हाथ मेरे कंधे पर आता और पीछे से आवाज आती-

बेटा माना किया था न इधर मत आना । 

क्यूँ किया तूने ऐसे काम क्या तुझे नहीं आया अपनी माँ का ख्याल ,उठ बेटा चल देख तेरी माँ तेरे लिए क्या लाई है ,

तभी माँ अपने आंचल मे छुपा लेती है और कहती है बेटा यहाँ तुझे कुछ नहीं होगा "





Happy Mother's Day to You

Mother's Day Spacial Article Must Read

Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in.

Like us on Facebook -  Facebook 

Subscribe on YouTube -  YouTube - 


Like our Entertainment Page -  Thik Hai



Share:

How to disable right click in blogger. Right Click kaise disable kare.

how to disable right click in blog,

Hello friends अगर आप एक Blogger है तो अपने ब्लॉग को हमेसा Protect करना चाहेंगे तो इसी Segments मे आज हम चर्चा करेंगे कैसे आप अपने Blog के Web Page मे Mouse के right Click को Disable कर सकते है । 


How to disable right click in blog

आइये कुछ Snapshot के द्वारा जानते है कैसे Disable करे Right Click को 

 Blogger  मे Layout menu मे Add Gadget मे HTML/JavaScript Choose करें । 




Choose HTML/JavaScript






Paste HTML Code given Below and Save 


<script language=javascript>
<!--
//edit by Knowledgepanel.in
var message="Please Don't Do this,Plz";
///////////////////////////////////
function clickIE4(){
if (event.button==2){
alert(message);
return false;
}
}
function clickNS4(e){
if (document.layers||document.getElementById&&!document.all){
if (e.which==2||e.which==3){
alert(message);
return false;
}
}
}
if (document.layers){
document.captureEvents(Event.MOUSEDOWN);
document.onmousedown=clickNS4;
}
else if (document.all&&!document.getElementById){
document.onmousedown=clickIE4;
}
document.oncontextmenu=new Function("alert(message);return false")
// -->
</script>

आप "Please Don't Do this,Plz"; के जगह खुद के अनुसार Message लिख सकते है 

Click and Download HTML Code 





Save करने के बाद अपने Blogging Website open करे और Right Click करे ! अपने देखा होगा Right Click करते ही web Page पे एक Pop up दिखता होगा जिसमे आपके द्वारा डाला गया Message दिखता होगा । 

आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in


Is Process se Copy Option Hide nahi hoga so if you want to hide Copy Option Click Below this Link


Click Here - How to Disable Copying Text On Blogger Blogs




Like us on Facebook -  Facebook Click Here

Subscribe on YouTube -  YouTube - Click Here


Like our Entertainment Page -  Thik HaiClick Here


Our Job Panel - Job Panel - Click Here



MI Mobile Phone -MI Mobile Phones

Certified Refurbished Mobiles- Buy Old Smartphones  

High Quality Products at Low Price Best Product you never missed

Mobile Accessories at Low Price- Low price mobile accessories




Share:

World Thalassemia Day celebrated on May 8 every year


Hello Friends पुरानी कहावत है "स्वास्थ्य ही धन है" Health is Wealth ,एक स्वस्थ व्यक्ति किसी अमीर व्यक्ति से ज्यादा धनी माना जाता है ,इसलिए  आज हम चर्चा करेंगे आपके Health की ,आज आप जनाएंगे दुनिया की एक गंभीर लाइलाज बीमारी Thalassemia (थेलेसीमिया ) के बारे मे ।

हर साल 8 May को पूरी दुनिया मे International Thalassaemia Day के रूप मे मनाई जाती है जो सभी करोड़ो Thalassemia (थेलेसीमिया ) पीड़ित को समर्पित होता है ।

World Health Organisation (WHO) के अनुसार Thalassemia (थेलेसीमिया) दुनिया के गंभीर लाइलाज आनुवांशिक बीमारी (genetic disorders) मे से एक है । 

आइये जानते है क्या है Thalassemia (थेलेसीमिया) और कैसे बचे इस गंभीर बीमारी से ।



What is Thalassemia (थेलेसीमिया) ?



Thalassemia (थेलेसीमिया) एक गंभीर आनुवांशिक बीमारी (genetic disorders)  है जो किसी को विरासत मे अपने माता पिता से मिलती है,इसका अर्थ ये हुआ की अगर कोई माँ बाप के शरीर मे Thalassemia (थेलेसीमिया) जैसी कोई Blood Diseases है तो उनके होने वाले  बच्चे  मे इस रोग के होने का खतरा बढ़ जाता है ।

इस रोग के होने पर शरीर की Hemoglobin (हीमोग्लोबिन) निर्माण प्रक्रिया में गड़बड़ी हो जाती है जिसके कारण रक्तक्षीणता (Anemia)के लक्षण प्रकट होते हैं। इसकी पहचान बच्चे के तीन माह की आयु के बाद ही होती है। इसमें रोगी बच्चे के शरीर में रक्त की भारी कमी होने लगती है जिसके कारण उसे बार-बार बाहरी खून चढ़ाने की आवश्यकता होती है।


Hemoglobin (हीमोग्लोबिन) की मात्रा कम हो जाने से शरीर दुर्बल हो जाता है तथा अशक्त होकर हमेशा किसी न किसी बीमारी से ग्रसित रहने लगता है। जिसे 
Thalassemia (थेलेसीमिया) कहा जाता है । 



Thalassemia (थेलेसीमिया) का इलाज और होने के कारण 


ये एक लाइलाज बीमारी है जिसका अब तक कोई इलाज उपलब्ध नहीं । Hemoglobin (हीमोग्लोबीन) दो तरह के Protein से बनता है Alpha Globin and Bita Globin,Thalassemia (थेलेसीमिया) से पीड़ित व्यक्ति के शरीर मे इन प्रोटीन में ग्लोबिन निर्माण नहीं होता,जिसके  कारण Red blood cells तेजी से नष्ट होने लगती है , रक्त की भारी कमी होने के कारण रोगी के शरीर Hemoglobin (हीमोग्लोबिन) की कमी हो जाती है जिस कारण बार-बार रक्त चढ़ाना पड़ता है एवं बार-बार रक्त चढ़ाने के कारण रोगी के शरीर में अतिरिक्त Iron जमा होने लगती है, जो Heart,Kidney और Lungs में पहुँचकर मौत का कारण बन जाता है ।

यह बीमारी उन बच्चों में होने की संभावना अधिक होती है, जिनके माता-पिता दोनों के Genes (जींस) में Thalassemia (थैलीसीमिया) होता है। अगर समय रहते Pregnancy (ग्रभावस्था) का दौरान समय समय पे जांच की जाय तो होने वाले बच्चे को इस गंभीर बीमारी से बचाया जा सकता है । 

Medicine Thalassemia पर पूरे विश्व मे अनुसंधान प्रयास जारी है और इसी अनुसंधान ने इस बीमारी को कंट्रोल करने की दावा बनाई है  भारत मे यह Asunra  के नाम से जाना जाता है वेदेशों मे Exjade के नाम से प्रसिद्ध है ये दवाई शरीर मे Iron की मात्रा को Control करने मे सहायक है जिससे Thalassemia के Patient को Extra Iron से होने वाले खतरो से बचाया जा सकता है । 
ये बिलकुल नई दवा है इससे पहले दो तरीको से शरीर से Iron की मात्रा कम करके इसका इलाज होता था । 


पहला Deferasirox injection के जरिए आठ से दस घण्टे तक लौह निकाला जाता है। यह प्रक्रिया बहुत महंगी और कष्टदायक होती है। इसमें प्रयोग होने वाले एक इंजेक्शन की कीमत 135 रुपए होती है। इस प्रक्रिया में हर साल पचास हजार से डेढ़ लाख रुपए तक खर्च आता है। 

दूसरी प्रक्रिया में kelfer नामक दवा (Capsule) दी जाती है। यह दवा सस्ती तो है लेकिन इसका इस्तेमाल करने वाले 30% रोगियों को जोड़ों में दर्द की समस्या हो जाती है। साथ ही इनमें से 1% बच्चे गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं।ऐसे में नई दवा Asunra काफ़ी लाभदायक होगी। यह दवा फलों के रस के साथ मिलाकर पिलाई जाती है और इसकी कीमत 100 रुपये प्रति डोज है।


Thalassemia (थेलेसीमिया) के प्रकार 

Type of Thalassemia 


मुख्यतः यह रोग दो वर्गों में बांटा गया है। Minor और Major 

जब ये रोग किसी बच्चे मे माता पिता मे किस एक से प्राप्त होता है तो इसे Minor Thalassemia कहा जाता है अगर माता पिता दोनों Thalassemia से पीड़ित है तो उसे Major Thalassemia कहते है । 


Thalassemia (थेलेसीमिया) के लक्षण । 


अगर कोई व्यक्ति या बच्चे का सूखता चेहरा, लगातार बीमार रहना, वजन ना ब़ढ़ना और इसी तरह के कई लक्षण दिखाई दे तो वह बच्चों या व्यक्ति में थेलेसीमिया रोग होने पर होने के लक्षण है।


Thalassemia से बचाव 

किसी Thalassemia पीड़ित बच्चे की उम्र 12 से 15 साल होती है इस बीमारी का इलाज करने पर लगभग 25 वर्ष तक जीने की उम्मीद रहती है उम्र के बढ़ते ही Blood की जरूरत ज्यादा लगने लगती है ।  

इससे बचने के लिए स्त्री पुरुष विवाह से पहले Blood Test करा लें तभी आने वाली पीढ़ी को इस गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है। नजदीकी रिस्तेदारों मे विवाह करने से बचें और जिस प्रकार विवाह से पहले स्त्री पुरुष अपने जन्म कुंडली का मिलान करते है उसी प्रकार स्वास्थ्य कुंडली का भी मिलान करना चाहिए ताकि वो खुद को और आने वाले पीढ़ी को इस गंभीर बीमारी से बचा सके । 


World Health Organisation (WHO) के अनुसार भारत मे प्रत्येक वर्ष 5 से 7 हजार Thalassemia पीड़ित बच्चे का जन्म होता है । केवल Delhi और उसके आसपास के क्षेत्र में ही यह संख्या करीब 1500  है। भारत की कुल Population का 3.5 % Thalassemia (थैलेसीमिया) से पीड़ित है।England में केवल 350 बच्चे इस रोग के शिकार हैं, जबकि पाकिस्तान में 1लाख  और भारत में करीब 10 लाख बच्चे इस रोग से ग्रसित हैं।

आइये इस International Thalassaemia Day के दिन ये संकल्प ले की आने वाले पीढ़ी को इस गंभीर बीमारी से बचाएंगे क्यूंकी  ये एक जानलेवा बीमारी है जिसका कोई इलाज नहीं सिर्फ बचाव ही इसका इलाज है इसलिए समय समय पर खून की जांच करवाले और अपने आने वाले पीढ़ी को इस गंभीर बीमारी से बचाए । 

click Here and Get WHO Reports


आपको ये Article कैसा लगा हमे Comment Box मे जरूर बताए । हमे उम्मीद है बताई गई जानकारी आपके लिए बेहतर और Helpful होगी ऐसे ही Knowledgeable और Interesting Hindi Article पढ़ने के लिए Visit करे www.knowledgepanel.in.


Like us on Facebook -  Facebook Click Here

Subscribe on YouTube -  YouTube - Click Here


Like our Entertainment Page -  Thik HaiClick Here


Our Job Panel - Job Panel - Click Here



MI Mobile Phone -MI Mobile Phones

Certified Refurbished Mobiles- Buy Old Smartphones  

High Quality Products at Low Price Best Product you never missed

Mobile Accessories at Low PriceLow price mobile accessories

Share:

Featured Post

Top amazing facts in hindi its amazing facts of life

क्या आप जानते है की कोई भी इंसान अपनी सांस रोक कर खुद को नहीं मार सकता ! नींबू मे स्ट्रोबेरी से ज्यादा शक्कर होती है ? आज Knowledge Pa...

Translate